सऊदी में फंसे 21 भारतीय, नौकरी का झांसा देकर वीजा-पासपोर्ट छीना

कोलकाता। नौकरी के नाम सऊदी अरब के जेद्दा गए 21 भारतीयों को वहां बंधक बना लिया गया है। इनमें से 20 पश्चिम बंगाल से हैं, जबकि एक मुंबई से। सभी पेशे से सोने के कारीगर हैं। अपने परिवार के लिए और पैसे कमाने की उम्मीद लेकर एक एजेंट के जरिए वे जेद्दा गए थे। इन 21 भारतीयों को गोल्ड मार्केट में नौकरी का वादा किया गया था, लेकिन वे सब ये समझ नहीं पाए कि उन्हें तस्करी कर दूसरे देश ले जाया गया है। इनसे वीजा और पासपोर्ट भी छीन लिया गया है।
लंबे समय से परिवार से नहीं हुई बात
इनमें से 4 हावड़ा से थे, 10 हुगली, 3 पूर्वी बर्धमान से, 2 उत्तर और एक दक्षिण 24 परगना जिले से थे। एक अन्य मुंबई के थाने से था। नैशनल ऐंटी ट्रैफिकिंग कमिटी के चेयरपर्सन शेख जिन्नार अली ने बताया कि उन्हें शांतनु पाल के परिवार से कॉल आई। उनके जरिए उन्हें पता चला कि दो साल पहले एक एजेंट की मदद से शांतनु जेद्दा के मुशाली फैक्ट्री में काम करने गए थे। वह टूरिस्ट वीजा के तहत वहां गए थे। वीजा पहले से ही एक्सपायर हो चुका है और लंबे समय से उन्होंने अपने परिजनों से बात नहीं की है।
सही सलामत वापस लाने का प्रयास जारी
काफी प्रयासों के बाद उन्होंने अपने परिवार से बात की और बताया कि उनका पासपोर्ट और वीजा जेद्दा में उतरते ही उनसे ले लिया गया था। परिवार ने जेद्दा में भारतीय दूतावास में बात करने की कोशिश की लेकिन असफल रहे। कई प्रयास के बाद उस नंबर पर संपर्क हुआ जिससे शांतनु ने कॉल की थी। इसके बाद एक दूसरे शख्स नजरूल इस्लाम से संपर्क किया गया। उन्हें नैशनल ऐंटी ट्रैफिकिंग कमिटी ऐप डाउनलोड करने और शिकायत दर्ज करने को कहा गया। विदेश मंत्रालय और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पूरे मामले के बारे में बता दिया गया है। जेद्दा में भारतीय दूतावास से संपर्क किया गया है। उन्हें सही सलामत वापस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट