सामने आया तीस हजारी हिंसा का CCTV फुटेज

नई दिल्ली। दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच हुई खूनी झड़प का एक सीसीटीवी सामने आया है, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि कोर्ट का लॉकअप जिसमें कैदी रखे जाते हैं उसमें आग लगा दी गई है. वकीलों ने आग इसलिए लगाई थी, क्योंकि पुलिस वाले उसमें बचने के लिए छुपे थे.
हिंसा के बाद एक्स्ट्रा फोर्स के साथ तीस हजारी कोर्ट पहुंची नॉर्थ डीसीपी मोनिका भारद्वाज जब लॉकअप के पास पहुंची तो वकीलों का भीड़ उनकी तरफ बढ़ा. डीसीपी सीसीटीवी में बाकायदा वकीलों को समझाने के लिए हाथ जोड़ती दिखाई दे रही हैं, लेकिन वकीलों की भीड़ उनकी तरफ बढ़ती है और डीसीपी समेत सभी पुलिस वालों का धक्का देकर खदेड़ती है.
दूसरे सीसीटीवी में मोनिका भारद्वाज को वकीलों से बचाते हुए कुछ पुलिस वाले कोर्ट से बाहर लेकर जाते दिखाई दे रहे हैं. साथ ही सीसीटीवी में पुलिस वाले भागते दिखाई दे रहे हैं. इसी सीसीटीवी में एसएचओ कोतवाली के साथ मारपीट करते हुए वकील दिखाई दे रहे हैं.
सीसीटीवी में लॉकअप के पास आग लगी जो तेज लपटों के साथ फैली और धमाका हुआ. डीसीपी मोनिका भारद्वाज को कई पुलिस वाले घेरा बनाकर कोर्ट से बचाते हुए ले जा रहे हैं. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की एसआईटी इस तमाम सीसीटीवी की जांच कर रही है, जो केस में अहम सुराग होंगे.
दिल्ली पुलिस के 2 अधिकारियों का तबादला
तीस हजारी कोर्ट में हिंसा के बाद मामला हाईकोर्ट पहुंच था, जहां स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर और एडिशनल डीसीपी के ट्रांसफर का हुकुम दिया गया था लिहाज आज स्पेशल सीपी संजय सिंह और एडिशनल डीसीपी हरेंद्र सिंह का तबादला कर दिया गया. हालांकि, दोनों को मलाईदार पोस्ट ही दी गई है.
घायल पुलिस वालों से मिलने उनके घर पहुंचे कमिश्नर
तीस हजारी कांड के बाद सड़कों पर उतरे दिल्ली पुलिस के जवानों का गुस्सा सीनियर अफसरों खासकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर पर फूटा था, लिहाज आज  दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमुल्य पटनायक तीस हजारी कांड में घायल पुलिस वालों के घर गए और उनका हाल चाल जाना.
दिल्ली पुलिस और बार काउंसिल के बीच मीटिंग
दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच जारी खींचतान के बीच हाईकोर्ट के आदेश के बाद एक टेबल पर दिल्ली पुलिस के अधिकारी और बार काउंसिल के मेंबर मीटिंग के लिए आए. हालांकि, काफी देर तक चली मीटिंग बेनतीजा रही. दरअसल, काफी दिनों से कोर्ट का काम प्रभावित हो रहा है. वकील हड़ताल पर हैं. पुलिस भी कोर्ट जाने से डर रही है, इसलिए ये मीटिंग बुलाई गई थी. अब आने वाले दिनों में ऐसी मीटिंग और होने की संभावना है.

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट