प्रदूषण से राहत नहीं, पीएम मोदी ने की थी समीक्षा बैठक

नई दिल्ली। दिल्ली में प्रदूषण से राहत मिलने के आसार नहीं दिख रहे हैं. एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (AQI) अभी भी 'खराब श्रेणी' में बना हुआ है. शुक्रवार को लोधी रोड एरिया में पीएम-2.5, 241 और पीएम-10, 238 दर्ज किया गया. हालांकि गुरुवार के मुकाबले AQI में गिरावट दर्ज की गई है. दिल्ली-एनसीआर में कल AQI 300 के करीब रहा.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पराली जलाने के मामले से निपटने के लिए बुधवार को कृषि मंत्रालय को निर्देश दिया कि पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों को प्राथमिकता के आधार पर उपकरण बांटे जाएं. दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री का यह पहला प्रत्यक्ष हस्तक्षेप था. उन्होंने उत्तरी राज्यों में वायु प्रदूषण पर कल एक समीक्षा बैठक की थी.
पराली से सीएनजी बना सकते हैं
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि पराली को सीएनजी में बदलना प्रौद्योगिकीय और व्यावसायिक रूप से संभव है. केजरीवाल ने कहा कि इस मुद्दे पर उनकी विशेषज्ञों के साथ कई बैठकें हुई हैं. उन्होंने ट्वीट किया, 'पराली को प्रौद्योगिकीय और व्यावसायिक तौर पर सीएनजी में बदलना संभव है'. इससे रोजगार, किसानों को अतिरिक्त आय व हमारी वार्षिक प्रदूषण की समस्या का समाधान होगा. लेकिन, इसके लिए सभी सरकारों के एकजुट होने और इस पर काम करने की जरूरत है.'
ठोस कदम ना उठाने का आरोप लगाया
पराली जलाने को दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का मुख्य कारण माना जा रहा है. केजरीवाल सरकार पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश पर अपने राज्यों में पराली जलाने के मुद्दे पर ठोस कदम नहीं उठाने का आरोप लगा रही है, जिससे दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण में वृद्धि होती है.
प्रदूषण पर सियासत भी जारी
सांस लेने के लिए शुद्ध हवा को तरस रही दिल्ली की जनता को राहत देने लिए आज से ऑड ईवन स्कीम लागू हो गया है. जहरीली हो चुकी दिल्ली की हवा के विषैले प्रभाव को कम करने के लिए केजरीवाल सरकार ने ये स्कीम लागू की है, लेकिन इस पर विपक्ष लगातार हमलावर रहा है. बीजेपी नेता विजय गोयल ने कहा था कि ऑड-ईवन के नाम पर राजनीतिक प्रचार किया जा रहा है.

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट