बांगलादेश के शेरों पर भारी पड़ी विराट सेना

कोलकाता
कोलकाता में खेले गए ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट मैच में भारत ने जीत हासिल कर ली है। भारत ने बांगलादेश को एक पारी और 46 रनों से हराया है। विराट कोहली की टीम ने बागंलादेश को 2-0 से श्रृंखला में मात दी है। इंदौर टेस्ट में भारत ने बांग्लादेश को एक पारी और 130 रनों से मात दी थी तो वहीं अब कोलकाता में भी भारत ने बांगलादेश को हराया है।
विराट कोहली ने गुलाबी गेंद की परीक्षा में खरा उतरते हुए बेहतरीन शतक जमाया जबकि इशांत शर्मा और उमेश यादव की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने बंग्लादेश को मात दी। अनुभवी मुशफिकुर रहीम की प्रतिबद्ध पारी ने यहां भारत का बांग्लादेश पर गुलाबी गेंद से खेल जा रहे दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में जीत का इंतजार तीसरे दिन तक बढ़ा दिया। कोहली ने 194 गेंदों पर 136 रन बनाये और वह दिन रात्रि टेस्ट मैच में शतक जड़ने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गये हैं। भारत ने अपनी पहली पारी नौ विकेट पर 347 रन बनाकर घोषित की और इस तरह से 241 रन की बढ़त हासिल की। पहली पारी में केवल 106 रन बनाने वाले बांग्लादेश की शुरूआत फिर से खराब रही और उसने चार विकेट 13 रन पर गंवा दिये। इसके बाद मुशफिकुर (नाबाद 59) ने बखूबी जिम्मेदारी संभाली जिससे बांग्लादेश ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने छह विकेट पर 152 रन बनाये। मुशफिकुर को छोड़कर केवल महमुदुल्लाह (रिटायर्ड हर्ट 39) ही भारतीय गेंदबाजों का सामना कर पाये। पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले इशांत ने फिर से कातिलाना गेंदबाजी की। उमेश यादव ने भी दो विकेट लिये हैं।
   भारतीय तेज गेंदबाजों का बांग्लादेश के बल्लेबाजों में आतंक का यह आलम था कि मोहम्मद मिथुन सिर पर चोट खाने वाले उसके तीसरे बल्लेबाज बने। वह इशांत के बाउंसर को झुककर नहीं खेल पाये। इससे पहले मोहम्मद शमी के बाउसंर पर उसके दो बल्लेबाज (लिटन दास और नईम हसन) चोटिल हो चुके हैं और उनकी जगह स्थानापन्न खिलाड़ियों को लेना पड़ा।भारत ने दूसरी पारी की शुरूआत में स्लिप में चार क्षेत्ररक्षकों को रखकर अपने इरादे जतला दिये थे। इशांत ने शादमान इस्लाम को पगबाधा करके भारत को पहली सफलता दिलायी। तब बांग्लादेश का खाता भी नहीं खुला था। इस तेज गेंदबाज ने कप्तान मोमिनुल हक को खाता भी नहीं खोलने दिया।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट