कमाई की दीवार खड़ी कर रहे हैं जायसवाल

ठाणे
अपनी अनोखी योजनाओं के लिए महाराष्ट्र ही नहीं देश भर में चर्चित रहे ठाणे मनपा आयुक्त संजीव जायसवाल ने एक और कदम उठाकर अचंभित सा कर दिय है। वैसे तो वे मनपा की तिजोरी हर साल भरने में सफळ रहे हैं। लेकिन उनकी नई पहल के कारण ठाणे मनपा की रीढ़ लोहरीढ़ में तब्दील होगी। इसी के तहत उन्होंने मनपा की सीमा में स्थित वन विभाग, एमआईडीसी तथा राज्य सरकार की जमीन पर बने झोपड़ों से सेवा शुल्क वसूलने का निर्णय लिया है। इस निर्णय से दोहरा लाभ होने जा रहा है। कहा जा रहा है कि सेवा शुल्क लगाने से ये झोपड़े वैध हो जाएंगे। साथ ही इन झोपड़ाधारकों को भविष्य में क्लस्टर या फिर अन्य सरकारी योजनाओं के तहत  पक्का घर मिलने का रास्ता भी साफ हो जाएगा। अनुमान लगाए जा रहे हैं कि सेवा शुल्क से मनपा को 50 करोड़ से अधिक की आमदनी सालाना होगी। विदित हो कि ठाणे मनपा की सीमा में वन विभाग, एमआईडीसी और राज्य सरकार की काफी जमीन है। जिस पर इस समय झोपड़े बने हैं। जहां दशकों से लोग रह रहे हैं। लेकिन इन झोपड़ों  को टैक्स नहीं लगा है। जबकि ठाणे मनपा प्रशासन वहां पानी, बिजली और रास्ते की सुविधाएं उपलब्ध करा चुकी है। ऐसे झोपड़ों को टैक्स की जगह सेवाशुल्क लगाने की मांग मनपा की महासभा में की गई थी। जिसे महासभा ने मान्य कर लिया है। महासभा की मान्यता मिलने के बाद सेवाशुल्क लगाने की तैयारी में प्रशासन जुटा है।
सबसे अहम बात है कि ठाणे शहर की भौगोलिक रचना ऐसी है कि यहां पहाड़ी भाग होने के साथ ही जंगल और खाड़ी भी है। सजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान से लगे हुए वन विभाग की जमीन पर अवैध झोपड़ों  की भरमार है। कलवा-मुंब्रा में भी यही स्थिति है। यहां के पहाड़ी भगों पर झोपड़ों की भरमार है। भले ही अधिकांश झोपड़ों  को टैक्स नहीं लगा हो, लेकिन मनपा प्रशासन वहां आधारभूत सुविधाएँ उपलब्ध करा चुका है।
ठाणे मनपा आयुक्त संजीव जायसवाल का मानना है कि इस कदम से कई दूरगामी लाभ मिलेंगे। खासकर वागले परिसर में एमआईडीसी की जमीन पर जो हजारों झोपड़े बने हैं, झोड़़ाधारकों पर सेवाशुल्क लगाए जाने के बाद उन्हें क्लस्टर या फिर सरकारी योजनाओं के तहत पक्का घर उपलब्ध होगा। ठाणे मनपा का शहर विकास इसको लेकर सक्रिय हो गया है।  इस बीच चर्चा हो रही है कि मनपा आयुक्त जायसवाल ठाणे से विदाई लेने के पहले ठाणेकरों को सेवाशुल्क का उपहार देंगे। सबसे अहम बात है कि ऐसा करने से मनपा की आर्थिक स्थिति में और भी मजबूती आएगी। मनपा के शहर विकास विभाग का मानना है कि ऐसे झोपड़ों से सालाना 50 करोड़ से अधिक का उत्पन्न प्राप्त हो पाएगा। इससे विकास योजनाओं के कार्यान्वयन में निधि की समस्या का समाधान हो पाएगा। दूसरी ओर ठाणेकरों में भी सेवाशुल्क लगाए जाने को लेकर खुशी का माहौल है। शहर के चर्चित युवा समाजसेवी आसद चाऊस का कहना है कि मनपा आयुक्त जायसवाल जनकल्याणकारी कामों को लेकर सदैव सक्रिय रहे हैं। उनका यह कदम झोपड़ाधार कों में नई आशा की किरण फैला रहा है। जिस कारण ठाणेकर उनके प्रति विशेष आभार जता रहे हैं।


रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट