तेलंगाना दुष्कर्म : काशी की बच्चियों ने मांगा इंसाफ

वाराणसी
 हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ दुष्कर्म की घटना से पूरे देश में आक्रोश है। रविवार को काशी में भी बच्चियों, महिलाओं में इस घटना के प्रति रोष दिखा। विशाल भारत संस्थान एवं मुस्लिम महिला फाउंडेशन की सामाजिक कार्यकतार्ओं एवं बच्चों ने सुभाष भवन, इन्द्रेश नगर से लमही गेट तक आक्रोश मार्च निकाला। इस दौरान नारा लगाया कानून का पाठ अब मत पढ़ाओ, सीधे फांसी पर लटकाओ। बच्चियों के हाथों में सख्त सजा संबंधी तख्तियां थीं, भिंची हुयी मुठ्ठी उन दुष्कर्मियों के लिये चेतावनी थी कि अब बेटियां चुप रहने वाली नहीं है। यह मार्च फाउंडेशन की सदर नाजनीन अंसारी एवं विशाल भारत संस्थान की राष्ट्रीय महासचिव अर्चना भारतवंशी के संयुक्त नेतृत्व में निकाला गया। लोगों ने कहा- हैदराबाद की घटना ने झकझोर कर रख दिया है। सभ्य समाज में इतने गिरे हुए दरिन्दे रहते हैं। अफसोस कि इनको भी बचाने वाले समाज में ही मौजूद हैं। बलात्कारियों को बचाने वालों को भी आजीवन कारागार की मांग महिलाओं ने की। संस्थान के अध्यक्ष डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव ने कहा- राजनीति करने वालों की जमात ने कानून का डर खत्म कर दिया है, जिसकी वजह से दरिन्दों में कानून का डर नहीं है। बेटियों को सिर्फ कानून के भरोसे ही नहीं बचाया जा सकता है।  बेटों को भी भारतीय संस्कृति का पाठ पढ़ाना चाहिए, ताकि वे हर औरत में अपनी मां और बहन की छवि देख सकें। जिन दरिन्दों ने महिला डाक्टर के साथ दुष्कर्म किया है, उनको 15 दिन के अन्दर फांसी पर लटका देना चाहिए। सरकार दुष्कर्मियों के दंड के लिए 15 दिन की मियाद तय करे। इनको संरक्षण देने वालों पर भी आरोप तय हो

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट