पूर्वांचल में भारत बंद का मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में दिखा असर

  वाराणसी पूर्वांचल में सीएए के विरोध में भारत बंद को लेकर प्रशासन और प्रदर्शनकारी कई जगहों पर आमने - सामने गए। हालांकि पुलिस प्रशासन ने सभी को वापस लौटाते हुए कानून व्यवस्था का हवाला भी दिया। इस दौरान मऊ और आजमगढ़ आदि जिलों के मुस्लिम बहुल इलाकों में बाजार बंदी रही और कारोबारियों ने अपनी दुकानें बंद कर विरोध प्रदर्शन में भी हिस्सा लिया। वहीं दोपहर बाद मीरजापुर और चंदौली आदि जिले में भी कई इलाकों में लोगों ने विरोध प्रदर्शन कर कारोबार बंद रखा। हालांकि शेष पूर्वांचल में कहीं किसी प्रकार के धरना प्रदर्शन और बाजार बंदी की सूचना नहीं होने से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।  बुधवार को मऊ में सीएए के विरोध में भारत बंद को सफल बनाने के लिए समर्थकों द्वारा कस्बे के नयापुरा मोहल्ले में जलूस निकालने पर पुलिस ने रोक दिय। इस दौरान पुलिस और भारत बंद समर्थकों के बीच झड़प भी हुई। पुलिस ने जुलूस की अगुवाई कर रहे एक व्यक्ति को इस दौरान गिरफतार कर लिया और बैनर तख्तियां छीन ली। वहीं सुरक्षा कारणों से मौके पर एसओ, सीओ घोसी और पुलिस बल के जवानों की तैनात कर दी गई है। वहीं सुरक्षा कारणों से पूर्वांचल के मुस्लिम बहुल इलाकों में प्रशासनिक सक्रियता भी बढ़ा दी गई है।  बहुजन क्रांति मोर्चा सहित कुछ अन् विपक्षी दलों की ओर से 29 जनवरी को भारत बंद का आहवान किया गया था। इसको लेकर प्रशासन भी काफी सक्रियता के साथ विरोध प्रदर्शन से निपटने की तैयारियों में लगा हुआ था। बुधवार को जिन इलाकों में धरना प्रदर्शन किया गया वहां प्रशासन ने लोगों को समझा बुझाकर वापस भी कर दिया। हालांकि कुछ मुस्लिम बहुल इलाकों में बाजार बंदी की वजह से अमूमन शांति व्यवस्था बनी रही। इस दौरान सुरक्षा कारणों से ऐसे संभावित स्थलों पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की सतर्कता बनी रही और चक्रमण करते रहने से कहीं भी अप्रिय खबर की सूचना दोपहर बाद तक नहीं रही। बहुजन क्रांति मोर्चा के बैनर तले पूरे देश में सीएए, एनआरसी और ईवीएम के विरोध में भारत बंद का आयोजन किया गया है। संगठन की ओर से मांग है कि डीएनए के आधार पर ही एनआरसी लागू किया जाए। इसको लेकर 29 जनवरी को भारत बंद का आयोजन संगठन की ओर से की गई है।

 मऊ में सर्वाधिक असर

 भारत बन्द को लेकर अमूमन पूर्वांचल में कहीं कोई हलचल नहीं रही मगर मऊ जिले में मुस्लिम बहुल अदरी क्षेत्र में लोगों ने सुबह से ही धरना प्रदर्शन बहुजन क्रांति मोर्चा के बैनर तले शुरू किया। इस दौरान बाजार बंदी के अलावा बुनकर बहुल इलाकों में लूम भी बंद रखा गया। मौके पर पहुंची पुलिस के समझाने बुझाने के बाद भारत बंद समर्थकों ने जलूस को रोक दिया। हालांकि इस दौरान मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती के बीच बंद समर्थकों को खदेड़ा भी गया। जिला प्रशासन ने कड़ी मशक्कत के बाद जुलूस को रोका तो लोगों ने एनआरसी के विरोध में प्रशासन को ज्ञापन भी दिया। वहीं सुरक्षा कारणों से धरना प्रदर्शन का नेतृत् कर रहे दो लोगों को पुलिस पकड़ कर थाने भी ले आई।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट