पर्यावरण बचाने के लिए सौर उर्जा को दें बढ़ावा

मधेपुरा। पर्यावरण को बचाने के लिए जन-जन तक जागरूकता फैलाने के लिए जिले के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों और कार्यालयों में जल जीवन हरियाली दिवस मनाया गया। विभिन्न जगहों पर आयोजित कार्यक्रम में लोगों को पर्यावरण को संरक्षित रखने के उपायों की जानकारी दी गयी। इस अवयर पर बड़ी संख्या में पौधरोपण किया गया। कार्यक्रम में वक्ताओं ने पर्यावरण को बचाने के लिए सौर उर्जा का अधिकतम उपयोग करने की बात कही।टीपी कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में प्राचार्य डॉ. केपी यादव ने कहा कि प्रकृति हमारी मां है। प्रकृति के सानिध्य में बिताया गया एक पल मनुष्यों के साथ बिताए गए सैकड़ों पलों से बेहतर है। हमें अपना अधिक से अधिक समय प्रकृति-पर्यावरण के सानिध्य में बिताना चाहिए।राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में आयोजित प्रथम जल-जीवन-हरियाली दिवस पर शिक्षकों ने छात्र-छात्राओं को जागरूक किया। इस अवसर पर सौर ऊर्जा के उपयोग को प्रोत्साहन एवं उर्जा की बचत पर बल विषय पर परिचर्चा हुई। प्रधानाचार्य ने कहा कि महाविद्यालय पूर्व से ही जल-संरक्षण, हरियाली और सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने हेतु प्रतिबद्ध है।उन्होंने कहा कि पौधशाला सृजन एवं वृक्षारोपण, जैविक खेती एवं अन्य तकनीकों का उपयोग और सौर ऊर्जा उपयोग को प्रोत्साहन एवं ऊर्जा की बचत जरूरी है। राष्ट्रीय सेवा योजना विवि कार्यक्रम समन्वयक डॉ. अभय कुमार ने सौर ऊर्जा के उपयोग को प्रोत्साहन एवं ऊर्जा की बचत पर बल से संबंधित बिंदुओं की जानकारी दी।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट