अटाला मस्जिद को बम से उड़ान की धमकी

 जौनपुर । पुलिस को एक ऐसा फोन काल मिला जिससे पूरा महकमा हिल गया। शनिवार को फोन करने वाले ने बताया कि वह नगर स्थित ऐतिहासिक अटाला मजिस्द और मोहम्मद हसन कालेज को बम से उड़ा देगा। फोन आते ही प्रशासनिक अमला सक्रिय हो गया। डाग स्क्वायड के साथ टीम जांच करने पहुंच गयी। काफी देर तक हुई जांच में पता चला कि मामला फर्जी है। फोन करने वाले से बात की गई तो उसने पुलिस से अभद्रता करते हुए फोन बंद कर दिया। त्योहार पर सुरक्षा को लेकर वैसे ही पुलिस हाफ रही है वहीं शनिवार की सुबह करीब साढ़े छह बजे डायल 112 पर एक ऐसा फोन काल आया जिसे रिसीव करने के बाद अफरा-तफरी मच गई। फोन करने वाले ने धमकी देते हुए कहा कि उसने अटाला मस्जिद में बम फिट कर दिया गया है, अब वह इसे उड़ा देगा। इसके अलावा वह मोहम्मद हसन पीजी कालेज को भी बम से उड़ाने की धमकी देने लगा। टीम ने खबर आला अधिकारियों को दी तो सभी सक्रिय हो गये। एक घंटे के भीतर डाग स्क्वायड के साथ टीम मौके पर पहुंच गई। काफी मशक्कत के बाद भी वहां कोई भी बम या दूसरी संदिग्ध चीजें नहीं मिलीं। इसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली।

 सर्विलांस पर लगा गया फोन करने वाले का नंबर

 आइजी जोन विजय सिंह मीणा ने पुलिस लाइन में बताया कि धमकी भरे फोन करने वाले को पुलिस ने फोन किया तो बदतमीजी पर उतारू हो गया। इसके बाद उसने फोन बंद कर दिया। उसका नंबर सर्विलांस पर लगाकर उसके माध्यम से तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे पकड़ लिया जायेगा।

 एलआइयू को भी सौंपी गयी जिम्मेदारी

 ऐसा नहीं है कि धमकी भरा फोन काल फर्जी निकलने के बाद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठ गई या इसे संजीदगी से नहीं ले रही। फोन करने के पीछे का मकसद तलाशने के लिए पुलिस टीम लग गई है। सर्विलांस के बाद सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी एलआइयू को सौंपी गई है। वह अपने खबरी नेटवर्क के माध्यम से धमकी भरे फोन आने के मकसद को तलाश रही है। यह भी देखा जा रहा है कि कहीं फोन करने वाला कोई आसपास का तो नहीं।

 अटाला मस्जिद का मोहम्मद हसन कालेज से कनेक्शन

 दरअसल अटाला मस्जिद परिसर में काफी दिनों से मोहम्मद हसन कालेज का प्राइमरी सेक्शन चल रहा है। इसको लेकर भी कई बार तरह-तरह की बातें उठ चुकी हैं। लोगों को यह बात गले नहीं उतर रही कि इस धमकी में अटाला मस्जिद के साथ मोहम्मद हसन कालेज का नाम क्यों जोड़ा गया। कहीं ये वहां चल रहे प्राइमरी सेक्शन से जुड़ा मामला तो नहीं। वहीं इस संबंध में मोहम्मद हसन कालेज के प्राचार्य डा. अब्दुल कादिर खान ने  कहा कि विद्यालय शिक्षा का मंदिर है। यहां कोई जाति-धर्म का नाम शिक्षण का कार्य होता है। कालेज को उड़ाने की सूचना हमें भी मिली है। पुलिस अपना काम कर रही है। हमें किसी से कोई शिकायत नहीं है। 

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट