महज पौने तीन घंटे में ही बना दिया अंडरपास,रेलवे ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड

सहरसा। सहरसा मधेपुरा रेलखंड पर रेलवे ने सप्ताह भर में अपना ही बनाया रिकॉर्ड तोड़ दिया। रेलवे ने शनिवार को महज पौने तीन घंटे में अंडरपास तैयार कर लिया। यह कमाल सहरसा-मधेपुरा रेलखंड के मिठाई के पास फाटक संख्या 94 ए के पास किया गया है।सहरसा-मधेपुरा के बीच अतिव्यस्त एनएच 107 मुख्य सड़क में राहगीरों और वाहन चालकों को जाम से निजात दिलाने के लिए चार अंडरपास निर्माण कराने का रेलवे ने निर्णय लिया गया है। इसमें पिठाई के पास फाटक संख्या 94 पर बीते 29 फरवरी को 12 फीट ऊंचा अंडरपास साढ़े चार घंटे में तैयार किया गया था। इसके बाद 94 ए पर शनिवार को अंडरपास निर्माण कार्य के लिए निर्धारित समय से 15 मिनट बाद सुबह 8.45 बजे ब्लॉक लिया गया। यहां बगल में एक कैनाल नदी गुजरने के कारण मात्र 20 मीटर बची जगह में मशीन, मजदूरों और रेलकर्मियों से कार्य कराना थोड़ा कठिनाइयों से भरा था। इसके बावजूद इसके रेल अधिकारियों की पूरी टीम ने इस तरह की कुशल तैयारी की कि दिन के साढ़े 11 बजे महज तीन घंटे में ही 12 फीट ऊंचा अंडरपास बनकर तैयार हो गया। निर्माण के दौरान छह स्लैब को ढालते हुए सात सिग्मेंटल बॉक्स लगाए गए। रेल इंजीनियरिंग विभाग ने साढ़े 11 बजे ही लाइन क्लियर करने के लिए स्टेशन को मेमो दे दिया। हालांकि रेल बिजली विभाग द्वारा विद्युतीकृत तार जोड़ने के बाद सहरसा-मधेपुरा रेलखंड पर दिन के 12 बजे से ट्रेन सेवा बहाल हुई। इस दौरान सहरसा-मधेपुरा अप डाउन पैसेंजर ट्रेन ( 55569/70) रद्द रही। पूर्णिया कोर्ट से सहरसा के लिए डेमू ट्रेन (75261) साढ़े तीन घंटे की देरी से खुली। जयनगर से मनिहारी जाने वाली जानकी एक्सप्रेस दो घंटे से अधिक विलंब हुई। ट्रेनों के रद्द और विलंब परिचालन से यात्रियों को काफी परेशानी हुई।

 

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट