सहरसा में गोलीबारी और लूटपाट के विरोध में बाजार बंद, दुकान बंद कर सड़क पर उतरे व्यवसायी

सहरसा। सहरसा के पतरघट में गोलीबारी और लूटपाट के विरोध में गुस्साए व्यवसायी सड़क पर उतर गए हैं। व्यवसायियों ने बुधवार की सुबह से बाजार बंद कर रखा है। मंगलवार की शाम और बुधवार को गोली चलाने और व्यवसायी को घायल कर लूटपाट करने वालों पर कार्रवाई की मांग को लेकर व्यवसायी सड़क पर उतरकर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं।व्यवसायियों के विरोध की वजह से करीब 100 छोटी-बड़ी दुकानें बंद हैं। व्यवसायियों का आरोप है कि पुलिस की मौजूदगी में पतरघट चौक पर मंगलवार की शाम नशेड़ियों ने चार राउंड फायरिंग की। पुलिस की तरफ से किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं होने के कारण बुधवार की सुबह सात बजे भी नशेड़ियों ने दो बार फायरिंग की। व्यवसायियों का कहना है कि नशेड़ियों का उत्पात इस कदर बढ़ गया है कि उनलोगों ने महेन्द्र स्वर्णकार की स्टेशनरी और पान दुकान में तोड़फोड़ भी की। पतरघट ओपी से महज 200 गज की दूरी पर स्थित दुकान में हथियार के साथ घुसकर व्यवसायी जीतू कुमार के सिर पर लोहे की रड से प्रहार कर उसका सिर फोड़ दिया। लोहे की रड से ही प्रहार कर अमरेश महतो के हाथ तोड़ दिए और गल्ले में रखे सात हजार कैश लूट लिए। इधर घटना की बाबत व्यवसायी राहुल सोनी ने ओपीध्यक्ष को आवेदन देकर कहा है कि दस मार्च की शाम पांच बजे मानिकपुर के मुरली यादव, राजेश यादव, रौशन यादव, प्रमोद यादव और धर्मवीर यादव मेरे दुकान पर आकर गालीगलौज करते फायरिंग करनी शुरू कर दी। मेरे साथ मुरली यादव ने मारपीट की और राजेश यादव ने लोहे की रड से मेरे चचेरे भाई जीतू कुमार के सिर पर प्रहार करते उसे जख्मी कर दिया। प्रमोद यादव ने अमरेश महतो पर लोहे की रड से प्रहार करते उसका हाथ तोड़ दिया और गल्ला में रखे सात हजार नगदी लूट ली। उसके बाद रौशन फायरिंग करते चला गया।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट