मोबाइल लैब में होगी पेयजल के नमूनों की जांच, 31 मार्च तक चलेगा अभियान

सीवान। बिहार में पेयजल के नमूनों की जांच अब मोबाइल लैब (चलंत प्रयोगशाला) में होगी। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग (पीएचईडी) द्वारा नौ चलंत प्रयोगशालाओं को विभिन्न क्षेत्रों में भेजा गया है। 31 मार्च तक अभियान चलाकर पानी के नमूनों की जांच इसके माध्यम से की जाएगी। 31 मार्च के बाद पानी के नमूनों की जांच रिपोर्ट पर विभाग में संबंधित पदाधिकारी अपना प्रस्तुतीकरण देंगे। इसके बाद विभाग आगे की रणनीति बनाएगा। नल-जल योजना के तहत आपूर्ति की जा रही पेयजल के साथ-साथ चापाकल के पानी के नमूनों की जांच भी इन चलंत प्रयोगशालाओं के माध्यम से की जाएगी। वहीं आंगनबाड़ी और स्कूलों में स्थापित चापाकल के पानी के नमूनों की भी जांच होगी। मुख्य रूप से गुणवत्ता प्रभावित क्षेत्रों में यह जांच की जाएगी। इन नौ चलंत प्रयोगशालाओं में पांच बड़े तथा चार छोटे आकार के हैं। बड़े चलंत प्रयोगशाला द्वारा रोज 250 तो छोटे प्रयोगशाला से 150 नमूनों की जांच की जाएगी। इस जांच अभियान के लिए पीएचईडी ने निजी कंपनी का सहयोग लिया है। जांच की रिपोर्ट मुख्यालय के साथ-साथ क्षेत्रों में कार्यरत कार्यपालक अभियंता, अधीक्षण अभियंता और क्षेत्रीय मुख्य अभियंता को भी निरंतर रूप से देने का निर्देश विभाग ने दिया है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट