मौसम के उतार-चढ़ाव से सर्दी-खांसी के मरीज बढें

सुपौल। तापमान में उतार-चढ़ाव के कारण काफी संख्या में लोग बीमार पड़ने लगे हैं। मौसम के बदलाव के कारण लोग सर्दी, खांसी और बुखार की चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में जिले के अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ गई है। मेडिसिन और हृदय रोग विभाग के ओपीडी में मरीजों की संख्या अधिक हो रही है। सामान्य दिनों की तुलना में पिछले एक पखवाड़े में 10 से 15 फीसदी मरीज बढ़े हैं। मौसम का सबसे अधिक असर महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों पर दिख रहा है। सदर अस्पताल, पीएचसी और निजी क्लीनिकों के ओपीडी में इस समय सर्दी, खांसी और बुखार से पीड़ित अधिक लोग आ रहे हैं। महिलाएं गैस्ट्रो इंट्रोटाइटिस से अधिक पीड़ित हो रही हैं। बच्चों में कब्जियत की शिकायतें अधिक हो रही हैं। गर्मी के बाद अचानक बारिश से तापमान में आई गिरावट से लोगों में संक्रमण अधिक हो रहा है। सदर अस्पताल के आंकड़ों के मुताबिक शनिवार को खराब मौसम के बाद भी 523 लोग इलाज के लिए सदर अस्पताल आए। इसमें से 159 बच्चे और 104 महिला मरीज थीं। इस मौसम में क्या बरतें सावधानी : शिशु रोग विशेषज्ञ और डीआईओ डॉ. सीके प्रसाद ने बताया कि यह बसंत ऋतु है। इसमें संक्रमण का अधिक खतरा रहता है। इसमें हाथ को अच्छी तरीके से साफ करके ही भोजन करें। आम के मंजर से भी अधिक संक्रमण का खतरा रहता है। इसलिए आम के मंजर से बचें। बाहर का दूषित भोजन न करें। खासकर खुले में रखी सामग्री न खाएं। मीठा का कम सेवन करें। पुराना चावल और गेहूं काफी फायदेमंद होता है।सुबह उठने के बाद जरूर टहलें और योगाभ्यास करें। फ्रीज में रखी चीजें कम खाएं। ताजा भोजन करें। चावल रोटी के अलावा हरी साग-सब्जियों का सेवन फायदेमंद होगा। घर की सामग्री इस समय सबसे अधिक फायदेमंद साबित होगी।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट