कोरोना के कारण दिहाड़ी मजदूरों पर आर्थिक आाफत

सीतामढ़ी  कोरोना वायरस का भय हर किसी में व्याप्त है। इससे बचाव के लिए लोग घर से बाहर निकलने से परहेज कर रहे है। इसका सीधा असर शहर के व्यवसाय के अलावा आॅटो-रिक्सा चालकों के आय पर पड़ा है। आॅटो चालकों को पहले के अपेक्षा बहुत कम सवारी मिल रहे है। जिससे तेल का दाम भी निकालना मुश्किल हो गया है। गुरुवार की दोहपर मेहसौल चौक पर खड़ा आटो चालक राजा कुमार ने बताया कि कोरोना वायरस के भय से सभी शिक्षण संस्थान बंद हो गए है। जिससें सुबह नौ से दस बजे के बीच काफी कम सवारी मिल रहा है। दोपहर बाद कुछ सवारी मिलता है। लेकिन, सीट फुल करना मुश्किल है। सवारी नहीं मिलने से आर्थिक संकट है। घर का खर्च चलना भी मुश्किल हो रहा है।

 सवारी नहीं मिलने से छायी बेरोजगारी

 शाम तीन बजे रेलवे स्टेशन पर दर्जनों आॅटो लगी थी। वहीं, आॅटो चालक आपस में बात-चीत कर रहे थे। पूछने पर बताया कि ट्रेन बंद होने से सवारी नहीं मिल रहे है। सुबह 10 बजे से अबतक बैठे है। पैसेंजर ट्रेन चल रहा है। जिससे कुछ ही आॅटो को सवारी मिल पा रहा है। शेष दर्जनों आॅटो को सवारी नहीं मिलने से चालक बेरोजगार हो गए है। उनके समक्ष घर-परिवार का खर्च चलाने के लिए भी आय नहीं हो रहा है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट