लाइफस्टाइल के लिए आईटी कंपनी का पूर्व वाइस प्रेसिडेंट बना लुटेरा, पुलिस ने दबोचा


नवी मुंबई। दिन पर दिन महंगी होती लाइफ स्टाइल को बनाए रखने के लिए अब लोग किसी भी रास्ते को अपनाने से गुरेज नहीं कर रहे हैं। मुंबई में एक ऐसा ही सनसनीखेज़ मामला सामने आया है, जिसमें एक आईटी कंपनी का पूर्व वाइस प्रेसिडेंट अपनी महंगी लाइफ स्टाइल को मेंटेन करने के लिए लुटेरा बन गया।

 नवी मुंबई के वाशी में रहने वाले 35 साल के सुमित सेनगुप्ता को हाल ही में मुंबई पुलिस ने चेन स्नेचिंग और कार लूटने के जुर्म में पकड़ा है। सुमित सेनगुप्ता का गिरफ्तार होना इस लिहाज से बेहद खास हो जाता है कि पांच साल पहले तक सुमित एक लीडिंग आईटी कंपनी में बतौर वाइस प्रेसिडेंट काम कर रहा था, जहां 2.5 लाख रुपए महीने उसकी सैलेरी थी। पारिवारिक समस्या के चलते सुमित ने नौकरी छोड़ दी थी। साल 2015 में सुमित की पत्नी ने वाशी पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई थी। वह पारिवारिक कारणों की वजह से तनाव में रहता था। नौकरी ना होने की वजह से बढ़ रहे दबाव के बीच जब सुमित अपनी महंगी जीवनशैली का खर्च उठाने में नाकाम रहा, तो उसने चोरी और लूट का रास्ता अपना लिया। पुलिस अधिकारी विकास गायकवाड़ ने बताया कि सुमित ड्रग एडिक्ट भी है।गिरफ्तार होने के बाद पुलिस पूछताछ में सुमित ने बताया कि वह एक नामी टेक्नीकल कॉलेज से पास आउट है और आईटी कंपनी के पुणे के ऑफिस में काम करता था। जांच अधिकारी के अनुसार सेनगुप्ता औऱ उसके साथी नितिन अग्रवाल ने वाशी में 12 दिसंबर को एक महिला के गले से सोने की चेन खींची थी। मुखबिर से मिली सूचना के बाद दोनों आरोपियों चोरी की कार के साथ गिरफ्तार किया गया। सुमित सेनगुप्ता ने चोरी की घटना को अंजाम देने के लिए 9 दिसंबर को फोर्टिस हॉस्पिटल के बाहर से कार चुराई थी।सुमित पहली बार पुलिस के रिकॉर्ड में नहीं आया है, इसके पहले साल 2017 में भी उसके खिलाफ चोरी की रिपोर्ट लिखाई गई थी। अब पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि अन्य थानों में भी सुमित का क्रिमिनल रिकॉर्ड है या नहीं।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट